menu-icon
India Daily
share--v1

3 मुद्दों पर टिकी है 10 सीटों की सियासी जंग, पर हरियाणा में कांग्रेस के लिए चुनौती बनेगी 30 प्रतिशत की खाई

Haryana Lok Sabha Chunav: लोकसभा चुनाव 2024 के छठवें चरण में हरियाणा की 10 सीटों पर चुनाव है. फिलहाल ये सभी सीटें भारतीय जनता पार्टी के पास है. हालांकि, 2019 से अभी तक हालात काफी बदले हैं ऐसे में सवाल है कि क्या मौके का फायदा उठाते हुए कांग्रेस 30 फीसदी वोटों के अंतर को पाट पाएगी.

auth-image
India Daily Live
bjp congress
Courtesy: Social Media

Haryana Lok Sabha Chunav: देश में लोकसभा का चुनाव अपने छठवें चरण में पहुंच चुका है. 25 मई को कुल 58 सीटों पर मतदान होने हैं. इसमें हरियाणा की 10 लोकसभा सीटें शामिल हैं. 2019 के चुनाव में इन सभी 10 सीटों पर भाजपा ने कब्जा कर लिया था. हालांकि, सियासी हालात तब से अब में काफी बदल गए हैं. इस बार इंडिया गठबंधन साथ लड़ रहा है. वहीं पिछले 5 साल में केंद्र के खिलाफ इस धरती पर 3 आंदोलन हो चुके हैं. ऐसे में अब सवाल उठता है कि क्या कांग्रेस इन्हें भुनाकर 30 फीसदी वोटों के अंतर को भर पाएगी.

साल 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी के मतों का अंतर 30 फीसदी का था. भाजपा के 58.02% वोट और कांग्रेस को 28.42% वोट मिले थे. वहीं JJP को 4.9 और INLD को महज 1.89% वोट मिल पाए थे. अब 2024 के चुनाव में 25 मई को 9 सीटों पर कांग्रेस-बीजेपी की सीधी टक्कर और एक सीट पर AAP-भाजपा की टक्कर है.

कांग्रेस के लिए 3 बड़े मुद्दे

पहला: मोदी सरकार ने 3 किसान कानून लाए थे. इनके खिलाफ जमकर प्रदर्शन हुआ. इसकी मुख्य भूमि हरियाणा ही रही. क्योंकि इसमें पंजाब के अलावा, हरियाणा के किसान हिस्सा थे. ऐसे में राज्य की 65% आबादी को वोट बीजेपी के लिए खींचना बड़ी चुनौती है.

दूसरा: महिला ओलंपियन पहलवानों के साथ मोदी सरकार के व्यवहार को लेकर प्रदेश में गुस्सा देखा जा रहा है. भाजपा नेता बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ लगे यौन उत्पीड़न के आरोप में प्रदर्शन करने वाले कई पहलवान हरियाणा के ग्रामीण इलाकों से हैं.

तीसरा: केंद्र और राज्य दोनों जगहों पर 10 साल से बीजेपी सत्ता में है.चुनाव से कुछ महीने पहले मुख्यमंत्री और उनके मंत्रिमंडल को बदल दिया गया. भाजपा ने अपने छह मौजूदा सांसदों के टिकट भी बदल दिए हैं. ऐसे में ये कांग्रेस के लिए एक मौके की तरह है.

क्या कर रही हैं BJP-कांग्रेस?

पिछले दो चुनावों से बीजेपी यहां क्लीन स्वीप कर रही है. वहीं कांग्रेस की झोली खाली है. ऐसे में अब कांग्रेस बड़ी दम लगा रही है. लगातार प्रदेश में किसान और पहलवानों के मुद्दों को भुनाने की कोशिश की जा रही है. वहीं बीजेपी अनुच्छेद 370 को खत्म करने और पाकिस्तान के खिलाफ हवाई हमले पर वोट मांग रही है. खैर देखना होगा की जनता किसकी सुनती है और 25 मई को किसको वोट करती है.